ⓘ द स्पेक्टेटर, 1711. द स्पेक्टेटर सन 1711–12 का एक दैनिक प्रकाशन था, जिसकी स्थापना इंग्लैंड में जोसेफ एडिसन और रिचर्ड स्टीले ने तब किया था, जब वे चार्टरहाउस स्कू ..

                                     

ⓘ द स्पेक्टेटर (1711)

द स्पेक्टेटर सन 1711–12 का एक दैनिक प्रकाशन था, जिसकी स्थापना इंग्लैंड में जोसेफ एडिसन और रिचर्ड स्टीले ने तब किया था, जब वे चार्टरहाउस स्कूल में मिले थे। एडिसन के एक चचेरे भाई एस्टेस बजेल ने भी प्रकाशन में योगदान दिया। प्रत्येक अखबार या अंक लगभग 2.500 शब्दों जितना लंबा था और यह मूल रूप से 555 अंकों तक चला था। इनका सात खंडों में संग्रह किया गया। अखबार 1714 में स्टीले की भागीदारी के बिना पुनर्जीवित किया गया था, जो छह महीने तक सप्ताह में तीन बार निकलता था और इन अखबारों का संग्रह करने से आठवां खंड बना।

                                     

1. उद्देश्य

द स्पेक्टेटर का कथित उद्देश्य था "नैतिकता को बुद्धि के प्रभाव से सजीव करना और बुद्धि को नैतिकता के जरिये संयमित करना. दर्शन को आलमारियों और पुस्तकालयों, स्कूलों और कॉलेजों से बाहर निकालना, उसे क्लबों और विधानसभाओं, चाय टेबल और कॉफी हाउसों में स्थापित करना."अंक 10. यह अनुशंसा की गई कि इसके पाठक इसे "चाय की ही एक सामग्री का हिस्सा मानें" अंक 10 और सुबह में इसे पढ़े बिना घर नहीं छोड़ें. इसके कार्यों में से एक था पाठकों को शैक्षिक और सामयिक वार्ता के विषय प्रदान करना और यह सलाह प्रदान करना कि कैसे एक विनम्र ढंग से बातचीत और सामाजिक आदान-प्रदान किया जाये. अपने समय के ज्ञान दर्शन के मूल्यों को साथ रखते हुए द स्पेक्टेटर के लेखकों ने परिवार, शादी और शिष्टाचार को बढ़ावा दिया।

                                     

2. पाठक संख्या

लगभग 3.000 प्रतियों के मामूली रोजाना वितरण के बावजूद स्पेक्टेटर व्यापक रूप से पढ़ा जाता था; जोसफ एडिसन का अनुमान था कि प्रत्येक अंक 60.000 लंदनवासियों द्वारा पढ़ा जाता था, जो उस समय राजधानी की आबादी का दसवां हिस्सा थे। इस बीच समकालीन इतिहासकाऔर साहित्यिक विद्वान इसे एक अनुचित दावा नहीं मानते हैं; क्योंकि अधिकांश पाठक स्वयं खरीददार नहीं थे, लेकिन वे सदस्यता लेने या खरीददारी करने वाले काफी हाउसों के संरक्षक थे। ये पाठक समाज में कई क्षेत्रों से आते थे, लेकिन अखबार मुख्यत: इंग्लैंड के उभरते हुए मध्य वर्ग- छोटे और बड़े सौदागरों और व्यापारियों- के हितों को पूरा करता था।

जर्गेन हैबरमास ने द स्पेक्टेटर को सार्वजनिक क्षेत्र के संरचनात्मक परिवर्तन के औजार के रूप में देखा था, जिसे इंग्लैंड ने अठारहवीं सदी में देखा. उनका तर्क है कि यह बदलाव मध्यम वर्ग के कारण और उसके हित में आया। हालांकि द स्पेक्टेटर ने अपने को राजनीतिक रूप से तटस्थ घोषित किया, लेकिन इसे ब्रिटिश सुधारवादी दल ह्विग के मूल्यों और हितों को बढ़ावा देने वाले के तौपर व्यापक रूप से मान्यता मिली।

बाद की अठारहवीं और उन्नीसवीं सदी में भी द स्पेक्टेटर काफी लोकप्रिय था और व्यापक रूप से पढ़ा जाता था। यह आठ खंडों के संस्करणों में बेचा जाता था। इसकी गद्य शैली और मनोरंजन के साथ नैतिकता और सलाह के मिलन को अनुकरणीय माना जाता था। ब्रायन मैककेरा और सी.एस. लेविस ने इसकी लोकप्रियता में गिरावट पर विचार-विमर्श किया।

                                     

3. द स्पेक्टेटर का चरित्र

द स्पेक्टेटर का एक प्रमुख कलात्मक प्रभाव था इसका एक काल्पनिक वर्णनकर्ता मिस्टर स्पेक्टेटर. पहला अंक उसके जीवन की कहानी को समर्पित है। मिस्टर स्पेक्टेटर बहुत कम बोलता है, मुख्य रूप से चेहरे के भाव के माध्यम से संवाद करता है। उसका नम्र प्रोफ़ाइल उसे व्यापक रूप से समाज में प्रसारित करने और एक दर्शक के रूप में अपनी स्थिति को पूरा करने में सक्षम बनाता है। वह अपने साथी नागरिकों की आदतों, छोटी-मोटी कमजोरियों और सामाजिक भूलों पर टिप्पणी करता है। वह दैनिक जीवन में अपनी चुप्पी की तुलना में अपने धाराप्रवाह बोलने की विडंबना को भी गद्य में व्यक्त करता है।

द स्पेक्टेटर का दूसरा अंक स्पेक्टेटर क्लब के सदस्यों, जो मिस्टर स्पेक्टेटर के दोस्त है, का परिचय कराता है। इससे दूसरी पंक्ति के चरित्रों का निर्माण होता है, जिन्हें द स्पेक्टेटर सामाजिक आचरण की अपनी कहानियों और उदाहरणों का स्रोत बना सकता है। एक समावेशी लोकाचार को बढ़ावा देने के लिए उन्हें कई अलग-अलग जीवन क्षेत्रों से लिया जाता है। इन चरित्रों में से सबसे ज्यादा जाने-पहचाने हैं रानी ऐनी के शासनकाल के एक ​अंग्रेज जमीदासर रोजर डी कवर्ली. उन्होंने एक पुराने देश के भद्रजन के मूल्यों को उदाहरणीकृत किया और वे प्यारे लेकिन कुछ-कुछ हास्यास्पद रूप में चित्रित किये गये, जिससे उनकी टोरी यानी पुरातनपंथी राजनीति हानिरहित लेकिन मूर्खतापूर्ण लगी। विल हनीकंब एक दुश्चरित्र व्यक्ति है जो हर उस तरह के वार्तालाप के लिए एकदम तैयार रहता है, जिससे पुरुष आमतौपर महिलाओं का मनोरंजन करते हैं।" नं.2 वह द स्पेक्टेटर के अंत के निकट तक तब सुधर जाता है, जब उसकी शादी होती है। एंड्रयू फ्रीपोर्ट एक व्यापारी है और स्पेक्टेटर क्लब में एक जनरल और एक पुजारी भी होते हैं।



                                     

4. स्रोत

  • डॉनल्ड एफ. बौंड के पांचवां खंड संस्करण 1965 द स्पेक्टेटर का सर्वाधिक उपयोग किया गया संस्करण है।
  • सी.एस. लेविस, अठारहवें सदी के अंग्रेजी साहित्य: आलोचना में आधुनिक निबंध में एडिसन एड. जेम्स क्लिफर्ड.
  • ब्रायन मैकक्री, एडिसन और स्टील मर चुके हैं
  • द स्पेक्टेटर संख्या 1, 2, 10, 1710-11.

शब्दकोश

अनुवाद
Free and no ads
no need to download or install

Pino - logical board game which is based on tactics and strategy. In general this is a remix of chess, checkers and corners. The game develops imagination, concentration, teaches how to solve tasks, plan their own actions and of course to think logically. It does not matter how much pieces you have, the main thing is how they are placement!

online intellectual game →